रीट 2020 परीक्षा की तैयारी कैसे करे || How to prepare for REET 2020 Exam

रीट परीक्षा 2020 की तैयारी कैसे करे || How to prepare for REET Exam 2020

दोस्तों जैसे की आप जानते है की राजस्थान के शिक्षामंत्री के द्वार रीट परीक्षा 2020 (REET Exam 2020) सितम्बर में करवाने के बारे में कहा गया है जो कि माध्यमिक शिक्षा बोर्ड अजमेर के द्वारा आयोजित की जायेगी जिसके लिए आप सभी तैयार भी होंगे। अतः आप सभी तैयारी करने वालों को मेरी तरफ से सफलता के लिए हार्दिक शुभकामनाएं। आज अपने इस लेख में हम रीट परीक्षा 2020 की तैयारी कैसे करे (REET pariksha 2020 ke tayari kese kare) (How to prepare for REET  Exam 2020) की कुछ रणनीति सीखेंगे जो आगामी REET परीक्षा के लिए सहायक सिद्ध होगी। मैं जानता हूँ कि अपने सपनो को साकार करने के लिए आप सभी लालायित है।<

तो आइये जानते है रीट परीक्षा 2020 (REET Exam 2020) की तैयारी के टिप्स :-

REET Exam 2020

पुस्तकों का चयन

दोस्तों, सही पुस्तकों का चयन किसी भी परीक्षा को पास करने का मूल मंत्र होता है। एक स्तरहीन पुस्तक आपका समय, धन और सपना तीनो का नुकसान कर सकती है।  पुस्तकों के चयन में आप सर्वप्रथम माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की कक्षा 5 से 10 तक की पुस्तकों की सूची बना लीजिये। किसी एक विषय की 1 या 2 पुस्तकों का ही अध्ययन करे, यदि आपके पास समय है तो आप अधिक पुस्तकों का भी अध्ययन कर सकते है। वैसे 10 पुस्तकों को एक बार पढ़ने से अच्छा है कि आप 1 पुस्तक को ही 10 बार पढ़े। उन्हें बार-बार पढ़े जिससे आपका कॉनसेप्ट क्लियर होना प्रारम्भ हो जाये। इसके साथ आप गाइड की भी मदद ले सकते है। पढ़ने के साथ-साथ मुख्य बिंदु को रंगीन पेंसिल से रेखांकित करे व महत्वपूर्ण सामग्री के नोटस तैयार कर लें, जिसको आपको समय-समय पर रिवाइज करना ही है। “Read once revise thrice”। परीक्षा से 15-20 दिन पहले से बाजार में उपलब्ध अच्छी गुणवत्ता वाले साल्वड-अनसाल्वड मॉडल पेपर्स को अवश्य करें अन्यथा आपकी मेहनत बेकार जाएगी।

कोचिंग का चयन

दोस्तों, कोचिंग का चयन बहुत ही महत्वपूर्ण है आप कोचिंग के चयन के लिए अपने सीनियर की सहायता ले सकते है । कोचिंग में प्रवेश लने से पूर्व वहाँ पढ़ चुके छात्रों से सलाह ले सकते है। कोचिंग में क्लास लेने के बाद आपको स्वयं भी पढ़ना होगा केवल कोचिंग के भरोसे रहने से ही आपका चयन नहीं होगा, चाहे आप बड़ी से बड़ी कोचिंग में प्रवेश क्यों न ले लेवें।

टेस्ट सीरीज कौन सी लेवें

दोस्तों वैसे तो अधिकांश कोचिंग सेंटर अपने यहाँ टेस्ट सीरीज का आयोजन करते है। इसके साथ ही आप किसी और टेस्ट सीरीज को भी ले सकते है। मैंने यह देखा है कि विद्यार्थी कोचिंग में क्लास तो लेते है लेकिन टेस्ट सीरीज से बचते है। प्रत्येक टेस्ट सीरीज के बाद उसका विश्लेषण करना बहुत जरुरी है इससे आपको किसी कठिन प्रश्न को समझ में आसानी होती है। वैसे बाजार में काफी ऑनलाइन टेस्ट सीरीज भी उपलब्ध है। आप किसी अच्छी गुणवत्ता वाली ले सकते है।

 कितने घंटे पढ़ना चाहिए

दोस्तों ये सवाल तैयारी करने वाले हर विद्यार्थी के मस्तिष्क में होता है। हर विद्यार्थी का लेवल अलग-अलग होता है। किसी विद्यार्थी को 7 से 8 घंटे पढ़ने की आदत होती है।  वही कुछ एक-दो दिन तो 10 से 12 घंटे तक पढ़ लेते है व अगले कुछ दिन बिलकुल भी नहीं पढ़ते, लकिन मेरा मानना है की आपको यहाँ पढ़ने के घंटे नहीं गिनने चाहिए बल्कि आपको एक व्यस्थित रूटीन बनाना होगा जिसमे आपको प्रतदिन पढ़ना चाहिए व अपने सिलेबस को पूरा करने पर जोर देना चाहिए।

टाइम टेबल बनाये

आप पढ़ने के समय को विषय के अनुसार निर्धारित करें और सिलेबस के अनुसार टाइम टेबल बनाकर अपने टेबल के सामने वाली दीवार पर चिपका दे। उसी टाइम टेबल के अनुसार ही अपना अध्ययन करें जिससे आपको ध्यान रहेगा कि आपने क्या कुछ पढ़ लिया और क्या पढ़ना बाकि है। ये सुनिश्चित कर लें कि टाइम टेबल के अनुसार ही पढ़ेगें। टाइम टेबल ऐसा तैयार करें कि परीक्षा से 10 दिन पहले ही सिलेबस को 2 से 3 बार बहुत अच्छे से पढ़ ले।

पढ़ने के स्थान का चयन

दोस्तों यदि आपके परिवार में अधिक सदस्य हैं और आपको पढ़ने में बाधा आ रही है तो आप उनसे प्रार्थना कर सकते है यदि आप फिर भी असहज महसूस कर रहे है तो आप अपने किसी साथी के साथ एक रुम ले लेवें या आप लाइब्रेरी भी ज्वाइन कर सकते है लेकिन ध्यान रखे आप ऐसे साथी को रखें जिसने वास्तव में ठान लिया है कि मुझे शिक्षक ही बनना है अन्यथा आपका व्यर्थ की बातो में उलझना तय है। दिन भर पढ़ने के बाद विषय का आपस में डिस्कशन जरूर करें  व एक दूसरे से सवाल पूछे जो कि आपके चयन में सहायक सिद्ध होगा ।

पढ़ने का सही समय

दोस्तों देखा जाये तो ये समय आप अपने अनुसार चुन सकते है। कुछ विद्यार्थी सुबह जल्दी उठकर पढ़ना पसंद करते है वही कुछ विधार्थी देर रात तक जाग कर। दोस्तों वैसे आप रात को 8 बजे से 2 या 3 बजे तक पढ़ सकते है।  एक प्रेरक वाक्य है “मेहनत इतनी ख़ामोशी से करो की सफलता शोर मचा दे”। यदि दिन में आपको पढ़ने का अनुकूल वातावरण नहीं मिलता या परिवार के अधिक सदस्यों के कारण पढ़ पाने में असमर्थ है अथवा आपके मित्र आपको दिन में परेशान करते है तो आपका रात को पढ़ना सही है। दिन में आप एक घंटा सो सकते है जिससे आप देर रात तक सही ढंग से पढ़ सकें व रात्रि को सोने के 6 घंटे उचित है।

सोशल नेटवर्किंग साइट्स से नाता तोडना पड़ेगा

दोस्तों आज के समय में युवाओ की सबसे बड़ी बीमारी Smart Phone का इस्तेमाल है और उससे जुडी हुई Facebook , WhatsApp, Tiktok आदि। आपको इनसे पूरी तरह नाता तोडना पड़ेगा जिससे आप बेहतर कल का निर्माण कर सके साथ ही साथ अनावश्यक मित्रों, गर्ल फ्रेंड, बॉय फ्रेंड, रिश्तेदारों, शादी-विवाह सभी को कुछ दिन के लिए भूल जाएं। इन सब का काम आपके बिना चल जायेगा लेकिन आपका काम आपके बेहतर करियर के बिना नहीं चल पाएगा ।

तो दोस्तों बजा दो बिगुल, बढ चलो रणभूमि की ओर, ये पूरा जहाँ आपका है, करियर आपका है, जीवन आपका है। या तो प्रारंभिक अवस्था आराम में बिता दो और पूरी जिंदगी संघर्ष में या आज थोड़ा सा संघर्ष और पूरा जीवन आनंद में, फैसला आपका है।

 

REET लेवल 1 व लेवल 2 परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण पुस्तकें 

 

Know More Jobs

Rajasthan High Court LDC Exam Scheme and Syllabus Click Here

Rajasthan High Court LDC Exam Scheme and Syllabus Click Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *